Thursday, 28 June 2018

मैक्सिको में हिंसक होंगे ये चुनाव, मतदान से पहले 133 नेताओं की हत्या

मैक्सिको सिटी : मैक्सिको में रविवार को होने वाले चुनावों से पहले कुल 133 नेताओं की हत्या की जा चुकी है. परामर्श देने वाली एटलेक्ट संस्था के एक अध्ययन में यह दावा किया गया. संस्था के मुताबिक देश में बढ़ रही हिंसा ने रिकॉर्ड स्तर पर राजनीति को भी अपनी चपेट में ले लिया है.

हत्या के इन अपराधों को सितंबर में उम्मीदवारों के पंजीकरण से शुरू होने और कल चुनाव प्रचार खत्म होने तक दर्ज दिया गया है. पश्चिमी राज्य मिकोआकैन में एक अंतरिम मेयर की हत्या कर दी गई थी. ज्यादातर हत्याएं स्थानीय स्तर के नेताओं की गई जो अक्सर मैक्सिको के ताकतवर मादक पदार्थ माफिया के निशाने पर रहते हैं.

चुनाव संबंधी हिंसा का अध्ययन करने वाली संस्था एटलेक्ट ने बताया कि मृतकों में 48 उम्मीदवार वो थे जो चुनाव में खड़े हुए थे जिनमें से 28 की हत्या प्रारंभिक प्रचार के दौरान की गई और 20 की आम चुनाव प्रचार के दौरान.

संस्था के निदेशक रूबेन सालाजर ने कहा, 'यह हिंसा स्थानीय स्तर पर केंद्रित है. इनमें से कम से कम 71 प्रतिशत हमले निर्वाचित अधिकारियों और स्थानीय स्तर पर चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के खिलाफ किए गए.' संस्था ने कहा यह मैक्सिको में हुआ अब तक सबसे हिंसक चुनाव है. मैक्सिको सरकार के 2006 में मादक पदार्थ तस्करी से लड़ने के लिए सेना की तैनाती किए जाने के बाद यहां हिंसा बहुत बढ़ गई है.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Tuesday, 19 June 2018

परवेज मुशर्रफ के बाद पीएम अब्बासी, विपक्षी नेता इमरान खान का नामांकन पत्र खारिज

इस्लामाबाद : पाकिस्तान में जुलाई के महीने में होने वाले आम चुनावों से पहले निर्वाचन आयोग ने बड़े नेताओं को झटका दिया है. निर्वाचन आयोग ने इस्लामाबाद के एनए-53 निर्वाचन क्षेत्र के लिए पूर्व प्रधानमंत्री और पीएमएल-एन नेता शाहिद खाकान अब्बासी और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान के नामांकन पत्र को खारिज कर दिया है.

पाकिस्तान के अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, निर्वाचन अधिकारी ने एनए-53 के लिए अब्बासी और उनके वैकल्पिक उम्मीदवार सरदार महताब के नामांकन पत्र खारिज कर दिए. दोनों उम्मीदवार आवश्यकता के अनुसार हलफनामा दायर करने में नाकाम रहे थे.

पूरी जानकारी ना देने के कारण खारिज हुआ नामांकन
चुनाव अधिकारी के अनुसार, अब्बासी ने अपने दस्तावेजों के साथ टैक्स रिटर्न की जानकारी जमा नहीं की. उम्मीदवारों ने चुनाव न्यायाधिकरण में फैसले को चुनौती देने की बात कही है. खान के नामांकन पत्र को भी पूरी जानकारी ना होने के चलते खारिज कर दिया गया.

पाकिस्तान में 25 जुलाई को होंगे आम चुनाव
पाकिस्‍तान में वर्तमान सरकार का कार्यकाल 31 मई को पूरा होगा और कार्यवाहक सरकार एक जून से और नई सरकार के गठन तक कामकाज संभालेगी. अंतरिम प्रधानमंत्री के नाम को लेकर सत्तारूढ़ पीएमएल- एन और विपक्ष के बीच बने गतिरोध के बीच राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव होंगे. प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी और विपक्ष के नेता खुर्शीद शाह के बीच कार्यवाहक प्रधानमंत्री के नाम पर अब तक सहमति नहीं बन पाई है.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Monday, 18 June 2018

सीरिया: सरकार समर्थक बलों पर की गई बमबारी, 52 लड़ाकों की मौत

बेरूत: पूर्वी सीरिया में सरकार समर्थक बलों पर की गई बमबारी में मृतकों की संख्या बढ़कर 52 हो गई है. मृतकों में अधिकतर इराकी हैं. ब्रिटेन स्थित ‘ सीरियन आबजरवेट्री फॉर ह्यूमन राइट्स’ ने सोमवार (18 जून) को यह जानकारी दी. यह हमला रात में शुरू हुआ था. इस संस्था के प्रमुख रामी अब्दुल रहमान ने एएफपी को बताया कि मारे गये लोगों में 30 इराकी लड़ाके और 16 सीरियाई हैं. उन्होंने बताया कि शेष छह लोगों की अभी तक पहचान नहीं हो सकी है. सीरियाई सरकार द्वारा संचालित मीडिया ने हमले के लिए अमेरिकी अगुवाई वाले गठबंधन को जिम्मेदार बताया है. हालांकि उसने इससे इंकार किया है.

सीरिया में इराक से लगती सीमा पर हवाई हमला
ऑब्जर्वेटरी के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने कहा , “ सीरिया - इराक सीमा पर स्थित अल - हारी पर रातभर हुए हमलों में सरकार समर्थित मिलिशिया के 52 गैर सीरियाई लड़ाके मारे गए. ’’ सीरिया सरकार की मीडिया ने सेना के एक सूत्र के हवाले से इस हमले के बारे में रात में ही जानकारी दी और इसका आरोप इस्लामिक स्टेट से लड़ रहे अमेरिका नीत सैन्य गठबंधन पर लगाया.

सीरिया के पूर्व में स्थित डेर अजौर प्रांत में बस्तियों पर कब्जा करने वाले आईएस के खिलाफ अमेरिका समर्थित लड़ाके और रूस समर्थित शासन बल अलग - अलग कार्रवाई कर रहे हैं. ऐसी घटनाओं से बचने के लिए दोनों पक्ष एक- दूसरे के क्षेत्र में हस्तक्षेप से बचते हैं लेकिन इसमें अपवाद भी रहे हैं.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Sunday, 17 June 2018

मिडिल क्‍लास कर रहा 'न्‍यू इंडिया 2022' का इंतजार, इसे डट कर करें पूरा; CM को पीएम का पैगाम

नई दिल्‍ली: नीति आयोग की बैठक में रविवार (17 जून) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आयोग के गवर्निंग काउंसिल का मंच ऐतिहासिक बदलाव ला सकता है. देश की विकास दर 7.7 प्रतिशत है, हमारे सामने चुनौती विकास दर को दोगुना करने की है. उन्‍होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित राज्यों को केंद्र सरकार सभी तरह की सहायता देगी. जीएसटी की बेहतर शुरुआत के लिए प्रधानमंत्री ने अपनी टीम को बधाई दी. उन्‍होंने कहा कि हमारा लक्ष्‍य किसानों की आमदनी दोगुनी करना है, साथ ही पिछड़े जिलों का विकास करना, आयुष्मान भारत, मिशन इन्द्रधनुष, न्यूट्रिशन मिशन और महात्मा गांधी की 150वीं जन्मशती के कार्यक्रम की तैयारियां इस बैठक का एजेंडा हैं. उन्‍होंने कहा कि उज्‍ज्‍वला, सौभाग्‍य, उजाला, जनधन, जीवन ज्‍योति योजना, सुरक्षा बीमा योजना और मिशन इंद्रधनुष जैसी योजनाओं के व्‍यापक फैलाव को लक्ष्‍य करना उद्देश्‍य है. 17 हजार गांवों में यह लक्ष्‍य पूरा हो चुका है.

मुख्‍यमंत्रियों को निभानी है बड़ी भूमिका
आयोग की बैठक की अध्‍यक्षता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुख्‍यमंत्रियों को राज्‍यों में नीति के पालन में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभानी है. उन्‍हें स्‍वच्‍छ भारत, डिजिटल ट्रांजेक्‍शन और कौशल विकास जैसे मुद्दों पर सह-समूह और कमेटियां बनाकर नीति का पालन करवाना होगा. सह-समूह के विकास के लिए केंद्रीय मंत्रालयों ने पूरा फॉर्मेट तैयार किया है. उन्‍होंने कहा कि समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षा को अपनाने के लिए व्‍यापक एप्रोच अपनानी होगी. पीएम ने कहा कि राज्‍यों को 11 लाख करोड़ रुपए केंद्र से मिल रहे हैं जो पिछली सरकार से 6 लाख करोड़ रुपए ज्‍यादा हैं.

मिडल क्‍लास को 2022 के न्‍यू इंडिया का इंतजार
प्रधानमंत्री ने कहा कि न्‍यू इंडिया 2022 के विजन का संकल्‍प देश का संकल्‍प बन गया है. पीएम ने कहा कि आयुष्मान भारत में 1.5 लाख स्वास्थ्य केंद्रों का निर्माण होगा. साथ ही 10 करोड़ परिवारों को हर साल 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा दिया जाएगा. पीएम ने 115 जिलों में मानव विकास के मानकों को बेहतर करने की ज़रूरत पर बल दिया.

उन्‍होंने कहा कि मुद्रा योजना, जनधन योजना और स्‍टैंड अप इंडिया जैसी योजनाएं लोगों के काफी काम आ रही हैं. उन्‍होंने इस मौके पर आर्थिक असंतुलन को दूर करने पर जोर दिया. नीति आयोग के शीर्ष निकाय परिषद में सभी राज्यों के मुख्यमंत्री, केंद्रशासित प्रदेशों के उपराज्यपाल, कई केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ सरकारी अधिकारी शामिल हुए हैं.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Friday, 15 June 2018

सैन फ्रांसिस्को में पहली बार अश्वेत महिला बनी मेयर, 'गे' को हराकर जीत हासिल की

लॉस एंजिलिस : अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को शहर में कांटेदार मुकाबले के बाद पहली बार किसी अश्वेत महिला को मेयर चुना गया है. लंदन ब्रीड ने अपने साधारण पालन पोषण और शहर में श्वेत तथा हिस्पैनिक लोगों के आवासीय संकट से निपटने के संकल्प के साथ चुनाव प्रचार अभियान चलाया था.

अमेरिका के 15 सर्वाधिक बड़े शहरों में इकलौती महिला मेयर 43 वर्षीय ब्रीड ने कहा कि यह मायने नहीं रखता कि आप कहां से आते हो, जिंदगी में क्या करने का फैसला करते हो, आप जो करना जो चाहते हो वह कर सकते हो. ब्रीड ने कहा, ‘कभी अपनी परिस्थितियों को अपनी जिंदगी के नतीजे का निर्धारण मत करने दो.’

ब्रीड के खिलाफ चुनावी मैदान में मार्क लेनो थे जो अगर जीत जाते तो सैन फ्रांसिस्को के पहले गे मेयर होते. मार्क लेनो ने कहा, ‘वह आसाधारण युवा महिला हैं. वह अच्छा काम करने जा रही हैं और हम उन्हें शुभकामनाएं देते हैं. उनकी सफलता सैन फ्रांसिस्को की सफलता है.’

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Thursday, 14 June 2018

कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ फिर से शुरू होगा सुरक्षाबलों का ऑपरेशनः सूत्र

नई दिल्लीः जम्मू कश्मीर में रमजान के दौरान आतंकियों के खिलाफ सुरक्षाबलों के जिस ऑपरेशन पर रोक लगाई गई थी सूत्रों के मुताबिक अब उसे आगे नहीं बढ़ाया जाएगा. सूत्रों के हवाले से खबर है सरकार ने सुरक्षाबलों की सलाह के बाद गृह मंत्रालय ने यह फैसला लिया है. इस फैसले के बाद से अब कश्मीर में सुरक्षाबलों को आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने की छूट होगी. बता दें कि सरकार ने रमजान के महीने के दौरान कश्मीर में ऑपरेशन नहीं करने का ऐलान किया था. इस आदेश के साथ ही गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने यह भी कहा था, 'कश्मीर में 'सीजफायर' नहीं है बल्कि 'सस्पेंशन ऑफ ऑपरेशन' (कार्रवाई कुछ समय के लिए रोक देना) है. उन्होंने यह भी कहा था कि सेना हाथ बांधकर नहीं बैठी है.किसी भी आतंकी गतिविधि के होने पर हम ऑपरेशन दोबारा शुरू करेंगे.

बता दें कि हाल ही दिनों में कश्मीर में सेना के ऑपरेशन पर सस्पेंशन के बाद आतंकियों ने फिर से सिर उठाना शुरू कर दिया है. रमजान के महीने में ही कई बार आतंकियों ने भारतीय सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है. 19 मई से अब तक हुए आतंकी हमलों में सुरक्षाबलों ने 17 आतंकियों को मार गिराया है. वहीं इस दौरान सुरक्षाबलों के 4 जवान शहीद हुए है.

14 जूनः जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकवादियों ने सीआरपीएफ के एक दल पर हमला किया. पुलिस ने बताया कि हमले में किसी की जान नहीं गई. आतंकवादियों को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान शुरू किया गया है.

ऑपरेशन ऑल आउट
गौरतलब है कि कश्मीर में रमजान के चलते सेना ने ऑपरेशन नहीं करने की घोषणा की थी. इसी के चलते आतंकियों ने सिर उठाना शुरू कर दिया और सेना के कैंप में घुसकर हमला करने लगे है. सेना द्वारा आतंकियों के सफाए के लिए चलाए गए ऑपरेशन ऑल आउट के तहत साल 2018 में ही 19 मई तक 89 आतंकियों को मार गिराया है. वहीं 6 आतंकियों ने सरेंडर किया और मुख्यधारा में वापस लौटे.14 मई को भारत सरकार द्वारा रमजान में ऑपरेशन ना करने के ऐलान यदि ना किया गया होता तो यह संख्या इससे ज्यादा हो सकती थी.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Wednesday, 13 June 2018

'भारतीय सुरक्षा बलों ने सीजफायर समझौते की पवित्रता बनाए रखी लेकिन PAK ने धोखा दिया'

जम्मूः बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को कहा कि भारतीय सुरक्षा बलों ने सीमा पर संघर्षविराम की पवित्रता बनाए रखी लेकिन दुर्भाग्य से पाकिस्तान ने ऐसा नहीं किया. अतिरिक्त महानिदेशक (पश्चिमी कमान) के एन चौबे ने पाकिस्तान रेंजर्स द्वारा मंगलवार रात गोलीबारी में बीएसएफ के चार कर्मियों के मारे जाने को ‘धोखा’ बताया. उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश ने जो किया यह उसका काम था और हमले पर हमारी ओर से जवाब देना ‘‘ हमारा काम ’’ है. चौबे ने यह भी कहा कि घटना को लेकर बीएसएफ पाकिस्तानी पक्ष से अपना विरोध जताएगा.

जम्मू कश्मीर के सांबा जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास पाकिस्तान रेंजर्स की गोलीबारी में सहायक कमांडेंट स्तर के एक अधिकारी सहित बीएसएफ के चार कर्मी शहीद हो गए और तीन अन्य घायल हो गए. चौबे ने नई दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि हम हमेशा तैयार हैं. संघर्षविराम हो या नहीं हो , सीमा पर प्रभुत्व बनाए रखा है और निगरानी में कमी नहीं आयी है. अधिकारी से सवाल पूछा गया था कि क्या सीमा सुरक्षा बल इसके लिए तैयार नहीं थे.

क्या पाकिस्तान ने धोखा दिया , इस संबंध में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है क्योंकि संघर्षविराम की घोषणाओं का सम्मान किया जाता है. उन्होंने कहा , ‘‘ हमने इसका सम्मान किया और पाकिस्तान ने इसका सम्मान नहीं किया. पाकिस्तान ने जो किया वह उसका काम था और छल का जवाब देना हमारा काम है. ’’

यह पूछे जाने पर कि क्या जवानों की शहादत का प्रतिशोध लिया जाएगा , चौबे ने कहा , ‘‘ हमारी संचालन तैयारियों में जो हो रहा है उसके बारे में मैं साझा नहीं कर सकता. ’’ उन्होंने कहा , ‘‘ लेकिन , हम इतना कहेंगे कि हम क्षेत्रीय अखंडता और प्रभुत्व बनाए रखेंगे. ’’

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Tuesday, 12 June 2018

Indian Army test-fires Smerch rockets, hits targets 90 km away

In yet another boost to the Indian Army, the Smerch guided missile-cum-multi barrel rockets successfully hit targets around 90 kilometres away at Rajasthan's Pokhran field firing range on Monday to clear the trial. Developed jointly by India and Russia, two versions of the Smerch - 9MMF and 9.55K - were test-fired.

A team senior Indian army officers and Russian scientists witnessed the test firing. The missiles/rockets are state-of-art and their direction can be controlled/changed to hit moving targets or if they deviate from their course. The Smerch uses stabilisers made at Kanpur’s Ordnance Factory Board. The stabilisers are the wings of the rocket which cannot be fired without them.

A similar test firing of the Smerch in 2017 had failed as the rockets missed the target and went awry. The 48.5 tonne Smerch with the Indian Army can fire seven types of rockets.

India is already developing and had in January 2017 and May 2018 successfully test-fired an upgraded version of Pinaka multi-barrel rocket launcher to replace the Smerch. "The Pinaka Rocket converted to a Guided Pinaka was successfully test-fired from Launch Complex-III, ITR, Chandipur today. The Pinaka Rocket Mark-II, which evolved from Pinaka Mark-I is equipped with a navigation, guidance and control kit and has been transformed to a Guided Pinaka. This conversion has considerably enhanced the range and accuracy of Pinaka. The test-firing has met all mission objectives. The radars, electro-optical and telemetry systems at Chandipur tracked and monitored the vehicle all through the flight-path. The Guided Pinaka is developed jointly by ARDE Pune, RCI Hyderabad and DRDL Hyderabad. ITR Chandipur provided the range and launch support," the Ministry of Defence has said on January 12, 2017.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

Monday, 11 June 2018

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की हुई मुलाकात, पढ़ें इस ऐतिहासिक मीटिंग से जुड़ी 5 बातें

सिंगापुर: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन यहां ऐतिहासिक शिखर वार्ता के लिये मिले. इस बैठक का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य बनाना और कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण है. ट्रंप और किम के बीच यह मुलाकात सिंगापुर के लोकप्रिय पर्यटन स्थल सेंटोसा के एक होटल में हुई. मौजूदा अमेरिकी राष्ट्रपति और एक उत्तर कोरियाई नेता के बीच हो रही यह पहली शिखर वार्ता ट्रंप और किम के बीच कभी बेहद तल्ख रहे रिश्तों को भी बदलने वाली साबित होगी.

ट्रंप और किम जोंग की मुलाकात से जुड़ी 10 बातें
1. डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह वास्तव में काफी अच्छा महसूस कर रहे हैं, हमारी चर्चा और रिश्ते शानदार होने वाले हैं.

2. किम जोंग उन ने कहा कि यहां तक आना आसान नहीं था, कई बाधाएं थीं लेकिन यहां पहुंचने के लिये हमनें उन्हें पार किया.

3. किम जोंग ने डोनाल्ड ट्रंप को संबोधित करते हुए कहा, 'आपसे मिलना इतना आसान नहीं था. मुझे खुशी है कि हम सारी बाधाओं को पार कर मिल रहे हैं.'

4. बैठक के दौरान ट्रंप ने किम से कहा, 'मुझे विश्वास है कि हम दोनों देशों के संबंध अच्छे होंगे.'

5. किम जोंग ने कहा कि तमाम बाधाओं को दूर कर हमारी मुलाकात हुई है, यहां तक पहुंचना आसान नहीं था.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing 

भूमध्यसागर से बचाए गए 629 शरणार्थियों की जान पर आफत, माल्टा ने नहीं खोला अपना बंदरगाह

रोम: माल्टा ने भूमध्यसागर से बचाए गए सैकड़ों शरणार्थियों को ले कर आ रहे एक बचाव पोत के लिए अपना बंदरगाह खोलने से सोमवार (11 जून) को इनकार कर दिया. गैर सरकारी संगठन के बचाव पोत एसओएस मैडिटेरनी ने रविवार (10 जून) को 629 शरणार्थियों की जान बचाई थी और फिलहाल ये लोग फ्रांसीसी एनजीओ के जहाज एक्वेरियस पर हैं. यह जहाज फिलहाल माल्टा और सिसली के बीच है और सुरक्षित बंदरगाह पर पहुंचने की प्रतीक्षा कर रहा है.

इटली के गृह मंत्री माटियो साल्वनी और इटली तट रक्षा के प्रभारी मंत्री डानिलो टोनीनेली ने एक संयुक्त बयान देकर कहा कि मानव जीवन की रक्षा पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों के सम्मान की बात करें तो माल्टा लगातार इससे मुंह नहीं मोड़ सकता. वहीं माल्टा की सरकार ने अपने जवाब में कहा है कि प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट ने इटली के प्रधानमंत्री गियुसेपे कोंटे से बात कि और कहा कि ‘माल्टा अपने अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का पूरा अनुपालन कर रहा है.”


इससे पहले भूमध्य सागर में 50 से ज्यादा शरणार्थी डूब गए थे. उनमें से अधिकतर ट्यूनीशिया और तुर्की के तट के पास डूबे थे. ट्यूनीशिया के अधिकारियों के मुताबिक, देश के दक्षिणी तट के पास से रविवार (3 जून) को 48 शव बरामद किए गए थे, जबकि 68 लोगों को सुरक्षित बचाया गया था. यह हिस्सा सफाक्स शहर के नजदीक है. हादसे में बचे ट्यूनीशिया के वाएल फरजानी ने बताया कि नौका की अधिकतम क्षमता 75 से 90 लोगों की थी, लेकिन उसमें 180 से ज्यादा लोग सवार थे. उन्होंने एएफपी को बताया कि नौका में पानी घुस गया और कुछ मुसाफिर समंदर में कूद गए और डूब गए.

ट्यूनीशिया के लोग और शरणार्थी नियमित तौर पर यूरोप में बेहतर भविष्य की तलाश के लिए भूमध्य सागर पार करने की कोशिश करते हैं. मार्च में 120 ट्यूनीशियाइयों को बचाया था. वे इटली पहुंचने की कोशिश कर रहे थे. इटली के नए गृह मंत्री मटेओ साल्विनी ने वहां पहुंचने वाले लोगों की संख्या घटाने और लोगों को देश से निकालने की प्रक्रिया में तेजी लाने का संकल्प लिया है. उन्होंने शनिवार (2 जून) को एक रैली में कहा कि अवैध आव्रजकों के अच्छे दिन खत्म हुए. अब वे अपना सामान बांध लें.

Source:-ZEENEWS

View More About Our Services:-Mobile Database number Provider and Digital Marketing